Hindi Poem by Mahek Parwani

#उग्र
दिये इतने ज़खम तूने,
दर्द की पहचान भूल गए।

अपनो ने किये सितम इतने,
हम

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories