Hindi Poem by hemant pandya : 111457709

मंजीले अपनी तरह रास्ते अपनी तरह ना कोई हमराही है और ना कोइ हमदर्द है, चल पडा राही अकेला आगे बठता राहमे ,
read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories