Hindi Story by sohan patel

शाम होते ही खुली सड़कों की याद आती है
सोचता रोज़ हूँ मैं घर से नहीं निकलूँगा
#musafir

View More   Hindi Story | Hindi Stories