Hindi Shayri by Neelima Sharma : 111450250

बुलंदियों की ख़्वाहिशें तो बहुत हैं मगर, दूसरों को रौंदने का हुनर कहाँ से लायें..

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories