Hindi Shayri by Bharat Rathod : 111437259

न होता है सबेरा की कितनी चोट खाई हे ,
ओ नमक लगाने वाले तेरी ये कैसी रहमत आई है ।
"राधेय"

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories