Hindi Poem by A A rajput : 111406366

आज बैठे घर में ख़ाली सोच रहा था मैं,
कैसे कुछ लोग मार सकते है doctors को जिनके हाथों में है देश।

जो दिन रात प्रहरी बन

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories