Hindi Blog by Divyesh Koriya : 111381111

स्वार्थ मेरा निजी था,किसी को पता ना था,
साथ चले मझधार तक,
पर नाव में छेद था,
निकल गया मैं लेकर कश्ती अकेला,
छो

read more

View More   Hindi Blog | Hindi Stories