Hindi Poem by CHHATRA PAL VERMA : 111356344

अधर

उनके
रससिक्त अधर
छूने की
मेरी चाहत|

अधर में लटक कर,
कर गई मुझे आहत|

View More   Hindi Poem | Hindi Stories