Quotes, Poems or Blogs | Matrubharti

मेरी ख़ामोशियों में तेरा ज़िक्र,
दर्द को अब दिल में रख हँसने लगा हूँ।

तू दुनियादारी समझ गई ,
और मैं तुझे दुन

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories