Hindi Shayri by Param Garvaliya : 111352064

पिघला जो चाँद , इन नशीली आंखों में ;
हाए , इंसान फिर क्या चीज़ है।
परम गरवलिया
#आंख

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories