Hindi Poem by Sachin Ahir : 111343888

Girl: inner emotions

मन में एक पहेली थी, में सबके बीच अकेली थी।
जिंदा में थी लेकिन सांसे उसकी चलाई थी।
मेरी खुदके लिए भी

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories