Quotes, Poems or Blogs | Matrubharti

जज़्बात लिखे तब मालूम हुआ
पढ़ें लिखे लोग आज भी पढ़ना नहीं जानते..R@j

View More   Hindi Blog | Hindi Stories