Hindi Poem by Rooh The Spiritual Power : 111325648

My New Poem...!!!


*कागजी टुकड़े पैसे में बहुत गर्मी होती है साहब*

*सबसे पहले ये रिश्ते जला कर राख करते हैं *

*चं

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories