Hindi Shayri by Deepak Tokalwad : 111325642

हमकों उनकी शरारत पसंद आ गयी।
उनको हमारी शराफत पसंद आ गयी।
फासला था फासला है,
हमको उनकी दिल्लगी पसंद आयी।

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories