Hindi Shayri by Deepak Tokalwad : 111325640

हम कितने गुनाह किए जा रहे है।
कल के भरोसे जिए जा रहे है।

दिपक

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories