Hindi Poem by Mukteshwar Prasad Singh : 111322452

छोटी सी चिड़ियाँ ,फुदकने लगी अँगना
अँगना में मैना ,लड़ा बैठी नैना।
सुधबुध खो बैठी ,नीन्द ना आवे रैना।
क्या खान

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories