Free Hindi Shayri Quotes by कार्तिक हजारे | 111321872

सोचना क्या है उसने तो तिर मारा था दील मे...
लेकीन दर्द तब भी नहीं हुंआ जब दील के तुकडे हूये...
सिर्फ एक ही लब्ज बोला उ

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories