Hindi Thought by Arjun Rajput : 111314463

ले उठ रही हूं बज़्म से में तिष्नगी के साथ,
मगर ऐ साकी ज़ुल्म ना हो ये अब किसिके साथ।

View More   Hindi Thought | Hindi Stories