Hindi Shayri by MB Publication : 111308648

तुम जानते नही हो /स्याह घेरे मेरी आँखों के/क्यों इतने गहरे है/ लम्बी रातें है/दिन क्यों इतने ठहरे है / यूँ ही जो कौंच द

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories