Hindi Shayri by alpprashant : 111305782

गुजरते वक़्त के साथ हम तुझे भूल न पाएं
जिंदगी की महेफिल में "अल्प" ख़िल न पाएं

©"अल्प" प्रशांत
Prashant Panchal
०३.१२.

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories