Hindi Thought by Deepak Singh : 111304193

मैं तन्हाइयों से यारी कैसे कर लूं,,,
जब खुशनसीबी का सबूत बनकर वो मेरे साथ चलता है...#D

View More   Hindi Thought | Hindi Stories