Hindi Shayri by A Gaurav Pithwa. : 111296834

छोड़ दी है अब हमने वो फनकारी वरना,

तुझ जैसे हसीन तो हम कलम से बना देते थे......!!!

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories