Hindi Shayri by Poorav : 111295822

कितना और बदलूं खुद को जीने के लिए . . . ऐ ज़िदगी , थोड़ा सा तो मुझको मुझमें रहने दे ! ! !
-Shivan

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories