Hindi Poem by Junaid Chaudhary

कब लफ़्ज़ों से जुड़ सकता है जो

टूट गया सो टूट गया

वो नाज़ुक से कांच का दिल जो

टूट गया सो टूट गया

कब बारि

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories