Hindi Shayri by Junaid Chaudhary

चेहरे पढ़ता. आंखे लिखता रहता हूँ।

मे भी केसी बातें लिखता रहता हूँ।

सारे जिस्म दरख्तों जैसे लगते हैं।

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories