Hindi Shayri by alpprashant : 111293514

भूलने लगे है हम अब तेरे वादो को
चाहने लगे है हम अब तेरी यादों को

©"अल्प" प्रशांत
Prashant Panchal
२२.१०.२०१९

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories