Hindi Shayri by Darshita Babubhai Shah : 111289148

मे और मेरे अह्सास

दिवानगी की
हद तो देखो
लूटती भी रही
और लुटाती भी रही
क्युकी मैं मां हू ll
दर्शिता

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories