Hindi Shayri by alpprashant : 111288479

हर वक़्त तेरे दीदार की तलब रहेती है
लाख़ कोशिशें भी नाकामियाब होती है

©"अल्प" प्रशांत
Prashant Panchal
०८.११.२०१९

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories