Hindi Shayri by alpprashant

कल रात फ़िर से मुलाक़ात हुई सी तुजसे
रातभर फ़िर से लिपट कर सोई सी मुजसे

©"अल्प" प्रशांत
Prashant Panchal
०२.११.२०१९
read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories