Hindi Shayri by alpprashant

सामने भी नहीं हो फ़िर भी नज़र आती हो तुम
ख्वाबों में आकर फ़िर कहां चली जाती हो तुम

©"अल्प" प्रशांत
Prashant Panchal

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories