Hindi Poem by Pranjali Awasthi : 111275624

बात करना या
बेवजह बात करना
कई बार बहाने खोजने जैसा होता है
आन्तरिक तुष्टि के लिए
किसी अनुसंधान की तरह

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories