Hindi Song by Rakesh Kumar Pandey Sagar : 111270677

स्वप्न जो आँखों में हैं,
वो नीर बनकर बह न जाए,
मिल सकी जो ना सफलता,
पीर बनकर रह न जाए,
उठ खड़े हो सपनों के,
पँखो

read more

View More   Hindi Song | Hindi Stories