Hindi Thought by VIRENDER VEER MEHTA

क्यों ना आज इक बार ख़ुद के भीतर भी झांका जाए,
इक तीर राम का मन में छिपे रावण पर चलाया जाए।
. . . सच तो यही है कि हम

read more

View More   Hindi Thought | Hindi Stories