Hindi Shayri by Darshita Babubhai Shah : 111253464

आंखो में जाम बातो में नशा है |
उसकी हर बात, अदा निराली है ||
जिस से मिलकर जी नहीं भरता |
उस अंजान शनासा का इन्तजार

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories