Hindi Shayri by Komal Deriya : 111237148

बिछडने का गम हम बया कर ना शके
क्योंकि तुं इस प्यारको मानती नहीं थी,
काश हम तुझे मिल पाये इस जनममें
करनी है वो ब

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories