Hindi Poem by suresh kulkarni

कतरा कतरा !

कतरा कतरा जिंदगी पिघल रही है ,
आसू बनकर निकल रही है |

चाहाथा दूर से हि देखू तुझे ,
रोशनी आखोकी

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories