Gujarati Romance by Herat Virendra Udavat : 111176134

" तुम.....! "

ख्वाबो का पिछा करते करते मिला एक हसीन ख़्वाब हो तुम,
रूह से लिखी हुई मानो एक किताब
हो तुम,
बस नझर

read more

View More   Gujarati Romance | Gujarati Stories