Hindi Romance by Varman Garhwal : 111151273

तुम्हारी चुड़ियों की खनक से कभी सुबह होती थी
जब तुम चाय लिए हाथ में डांट कर मुझे जगाती थी

मैं बड़े नखरे करता उ

read more
Varman Garhwal 1 year ago

धन्यवाद, जी

View More   Hindi Romance | Hindi Stories